काशी के चंदन में मदीने की वो खुशबू

काशी के चंदन में है
मदीने की वो खुशबू।

दुनिया की हर रौनक को
मैं नाम तुम्हारे कर दूं।

वो मुट्ठी भर उम्मीदें
वो गहरे गम के साए।

वो छितरी धूप सुनहरी
और लंबी-लंबी राहें।

लब पर नाम हो रब का
जब सफर खत्म हो जाए।

तेरी मिट्टी पाक मदीने
तेरा कण-कण पावन काशी।

जन्नत को मैं क्या चाहूं
बस नाम तुम्हारा कह दूं।

काशी के चंदन में है
मदीने की वो खुशबू।

दुनिया की हर रौनक को
मैं नाम तुम्हारे कर दूं।

मुहब्बत के हैं मरकज
अमन का आशियाना।

गंगा तू नदी नहीं है
तुमसे रिश्ता बहुत पुराना।

हर डुबकी में तेरी
कायनात नजर जो आए।

मेरे दिल से तुम भी पूछो
मेरी रूह बसी है तुझमें।

मेरे कदम चलें नेकी पर
हमसाया बनकर चल दूं।

काशी के चंदन में है
मदीने की वो खुशबू।

दुनिया की हर रौनक को
मैं नाम तुम्हारे कर दूं।

हो गईं मुरादें पूरी
राही को मिला ठिकाना।

उम्मीदें जगीं नवेली
इबादत का एक बहाना।

मेरा हर दिन ईद-दिवाली
हर लम्हा खुशी लुटाऊं।

मंदिर में खुदा मिले तो
मस्जिद में रोज मैं जाऊं।

काशी के चंदन में है
मदीने की वो खुशबू।

दुनिया की हर रौनक को
मैं नाम तुम्हारे कर दूं।

दिन बीते शहर मदीना
और सांझ पड़ी है काशी।

सच हो गया खाब पुराना
मेरा दिल खुश भारतवासी।

मेरी नजर जिधर भी देखे
मैं तेरे दर्शन चाहूं।

काशी के चंदन में है
मदीने की वो खुशबू।

दुनिया की हर रौनक को
मैं नाम तुम्हारे कर दूं।

- राजीव शर्मा, कोलसिया -
तारीखः 5 अक्टूबर 2015

Tags: rajeev kolsiya blog, rajeev sharma blog, rajeev blog, writer rajeev sharma, hindi story, blog of rajeev sharma, rajeev sharma kolsiya, ganv ka gurukul, gaon ka gurukul, राजीव शर्मा कोलसिया, गांव का गुरुकुल, गांव का गुरूकुल, kashi, varanasi

Comments

Popular posts from this blog

मारवाड़ी में पढ़िए पैगम्बर मुहम्मद साहब की जीवनी

आखिरी हज में पैगम्बर मुहम्मद साहब (सल्ल.) ने पूरी दुनिया के नाम दिया था यह पैगाम

क्या कुरआन में आतंकवाद फैलाने की शिक्षा दी गई है? मुझसे जानिए इस किताब की हकीकत